लीगल टेंडर क्या होता है?

लीगल टेंडर क्या होता है?

लीगल टेंडर का मतलब होता है की आरबीआई ने हम सभी के लिए पैसे जारी किए हैं हम यून पैसे को ले जाकर कहीं भी कुछ भी ख़रीद सकते हैं लेकिन कहीं लेकर जाते हैं जैसे की वह डिजिटल फॉर्म में होती है लेकिन आप उससे कुछ भी नहीं ख़रीद सकते हैं जैसे कि आप किसी कंपनी में शेयर खरीदते हैं और उसे लेकर जाते हैं शेयर के बदले हम कार नहीं ले सकते अगर हम कार लेने जाते हैं तो ओह पैसे ही मांगेगे

पैसा एक लीगल टेंडर है जिसे आप कुछ भी ख़रीद सकते हैं

क्रिप्टो करेंसी के फायदे क्या हैं ?

1. कोई मेडिएटर नहीं होता है

2. यह ग्लोबल मनी है

3. ट्रांजेक्शन फीस बहुत कम होती है

4. ट्रांजेक्शन जल्दी और आसानी से होता है

क्रिप्टो करेंसी के नुकसान क्या हैं ?

1. गलत ट्रांजेक्शन का पता लगाना मुश्किल

2. गलत कार्यों में प्रयोग होना

3. इसका मूल्य बहुत जल्दी बदलता है,

ब्लॉकचेन ?

लेन-देन करें बिच कोई मिडिल मैन नहीं होता है FIR, ये लेनदेन कैसे हो रहा है? ब्लॉकचेन के माध्यम से होता है ब्लॉक एक ऐसी चेन होती है जिसमें आप जो भी ट्रांजैक्शन करते हैं पूरी की पूरी जानकारी सुरक्षित राखी जाती है जैसा ही पहला ब्लॉक भर जाता है इसकी पूरी जानकरी चली जाती है उसकी चेन बन जाती है वही से फिर दूसरे ब्लॉक की शुरुआत होती है फिर दूसरा ब्लॉक भर जाता है फिर दूसरा ब्लॉक चला जाता है फिर तीसरा ब्लॉक बन जाता है इस प्रकार से एक चेन बन रही है यहां पर आपकी सभी जानकारी छुपी हुई है

खुदाई ?

जब एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति को पैसा भेज रहा है फिजिकल फॉर्म में नहीं होता है ऐसा नहीं होता है क्या आपने पैसे की गड्डी ली और दूसरे व्यक्ति को पाहुंचा दिया ऐसा नहीं होता है जो वह बिटकॉइन है वह डिजिटल है मतलब वह कोडिंग के रूप में है उस कोडिंग को कोई नहीं पढ़ सकता तो फिर उपयोग व्यक्ति का पैसा दूसरे व्यक्ति तक जाएगा कैसे उसे कहते हैं माइनिंग बिच में माइनर बैठे होते हैं जो जो माइनिंग के लिए कोडिंग का इस्तेमाल करते हैं

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*